स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी हुई 180 महिलाओं हेतु नाबार्ड द्वारा आजीविका एवं उद्यम विकास कार्यक्रम का शुभारंभ

सबसे हटकर - सबसे अलग, सत्य से साथ राजस्थान की आवाज।

स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी हुई 180 महिलाओं हेतु नाबार्ड द्वारा आजीविका एवं उद्यम विकास कार्यक्रम का शुभारंभ

स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी हुई 180 महिलाओं हेतु नाबार्ड द्वारा आजीविका एवं उद्यम विकास कार्यक्रम का शुभारंभ

_नाबार्ड जगा रहा स्वयं सहायता समूहों में उद्यमिता के माध्यम से आत्मनिर्भरता की अलख_

सीकर, 24 फरवरी 2022 l राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा सीकर जिले के पिपराली ब्लॉक में स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी हुई 180 महिलाओं हेतु आजीविका एवं उद्यम विकास कार्यक्रम (एलइडीपी) का शुभारंभ दौलतपूरा ग्राम पंचायत मे जिला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश कुमार, सहायक महाप्रबंधक नाबार्ड एम एल मीना, क्षेत्रीय प्रबंधक बड़ौदा राजस्थान क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक सुभाष गर्ग, अग्रिणी जिला प्रबंधक तारा चंद परिहार, दौलतपुरा सरपंच दिनेश कुमार आर्य के सानिध्य में किया गया।

आजीविका एवं उद्यम विकास कार्यक्रम के उद्घाटन के अवसर पर सहायक महाप्रबंधक नाबार्ड एम एल मीना ने कहा कि स्वयं सहायता समूह भी राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका अदा कर रहे हैं और आजीविका विकास कार्यक्रम के अंतर्गत ग्रामीण महिलाएं प्रशिक्षण लेकर स्वयं को स्वावलंबी बनाकर परिवार की आर्थिक स्थिति को मजबूत कर पाती है। उन्होंने बताया कि महिलाओं में हुनर की कोई कमी नहीं है लेकिन सही मार्गदर्शन न होने के कारण हुनर दबकर रह जाता है। उक्त कार्यक्रम का उद्देश्य महिलाओं के भीतर छिपे कौशल को विकसित कर आत्मविश्वास का संचार करना है, ताकि उन्हें उद्यमिता के माध्यम से आत्मनिर्भरता की दिशा में उन्मुख किया जा सके।

ज़िला परिषद मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश कुमार ने उद्घाटन कार्यक्रम में कहा कि जिले में राजीविका स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी हुई महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में आजीविका एवं उद्यम विकास कार्यक्रम पर प्रारंभ करने पर नाबार्ड के प्रयासों का धन्यवाद दिया और उम्मीद जताई कि नाबार्ड की वित्तीय सहायता से सेवा ज्योति (आर आर मोरारका चैरिटेबल ट्रस्ट) द्वारा अगरबत्ती बनाने के लिए दिए जा रहे 15 दिवसीय प्रशिक्षण की बदौलत महिलाओं को आत्मनिर्भरता बनाने में सहयोग मिलेगा।

सेवा ज्योति मुख्य परियोजना अधिकारी जितेंद्र यादव ने अगरबत्ती प्रशिक्षण पर विस्तृत प्रकाश डालते हुए बताया कि पिपरौली ब्लाक के राजीविका के स्वयं सहायता समूह की 180 महिलाओं को नाबार्ड के सहयोग से 30 - 30 महिलाओं के ग्रुप में 15 दिवसीय गहन प्रशिक्षण दिलवाया जाएगा। साथ ही, प्रशिक्षित महिलाओं को अगरबत्ती फैक्ट्री की एक्सपोज़र विजिट, अगरबत्ती बनाने वाली मशीन की एक लाइव डेमो यूनिट भी लगाई जाएगी और जरूरतमंद महिलाओं को अगरबत्ती उद्योग हेतु बैंकों से ऋण दिलवाने में भी मदद की जाएगी। बाद में महिलाओं को 2 दिवसीय रिफ्रेशर प्रशिक्षण भी दिया जायेगा।

कार्यक्रम में शाखा प्रबंधक बीआरकेजीबी रामनिवास ढाका, शाखा प्रबंधक पीएनबी अनिल जैन, राजीविका से विमला देवी, समूह सखी कमलेश, ग्राम विकास अधिकारी किशोर कुमार, एलडीसी सुनीता योगी, पंचायत सहायक कृष्ण मुरारी शर्मा, सेवा ज्योति जे सु प्यार देवी, सतवीर सिंह, सुरेंद्र सैनी, रवि पवार सहित स्वयं समूहों से जुड़ी हुई 70 से अधिक महिलाओं ने भाग लिया।