तहसील बनाने की मांग को लेकर बेटियों ने भी किए खून से हस्ताक्षर

सबसे हटकर - सबसे अलग , सत्य के साथ राजस्थान की आवाज ।

तहसील बनाने की मांग को लेकर बेटियों ने भी किए खून से हस्ताक्षर

तहसील बनाने की मांग को लेकर बेटियों ने भी किए खून से हस्ताक्षर

सीकर - लोकतंत्र में अपनी बात सरकार तक पहुंचाने और सरकार को अपनी मांग मानने के लिए बाध्य करने के अनेक तरीके हैं जिनमें धरने प्रदर्शन और ज्ञापन प्रमुख है लेकिन सोमवार को रानोली क्षेत्र की बहादुर बेटियों ने इससे भी एक कदम आगे रखकर आंदोलन का बिगुल बजाया l बेटीयों ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा स्वतंत्रता संग्राम के समय भारत माता की आजादी के लिए रक्त हस्ताक्षर अभियान से प्रेरणा लेते हुए पलसाना उप तहसील को तहसील बनाने के लिए रानोली क्षेत्र के बहादुर बेटियों ने  खून से हस्ताक्षर अभियान शुरू।पलसाना तहसील बनाओ संघर्ष समिति के संयोजक सुभाष राव ने बताया की रानोली में बहादुर बेटियों के नेतृत्व में युवाओं ने खून से हस्ताक्षर कर राज्य सरकार से उपतहसील को तहसील बनाने की मांग का नया तरीका अपनाया। एसबीआईआईटी कंप्यूटर अकैडमी रानोली के चेयरमैन राजेंद्र सिंह बगड़िया की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में सैकड़ों बेटियों और नौजवानों ने पलसाना तहसील बनाओ संघर्ष समिति के बैनर तले स्वयं के हाथों की अंगुलियों से रक्त निकालकर पलसाना उप तहसील को तहसील बनाने के लिए राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री के नाम तैयार किए गए ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया l

इस दौरान अंजू चौधरी, निकिता कंवर, निशा पिपलिवाल, सुनीता बाकोलिया, करीना शर्मा, निशा, निकिता यादव, राजू मावलिया, सुभाष लिढान, आशीष, राकेश गुर्जर, हरफूल भाखर, नरेंद्र सिंह बेनीवाल, खालिद गौरी, आसिफ, कमलेश बेनीवाल, रामरतन, मुकेश वर्मा, निकिता, लक्ष्मी फुलवारिया, अशफाक अली सहित सैकड़ों युवा और युवतियो ने अपने रक्त से हस्ताक्षर करके गांव गांव से इस अभियान को जल्द फैलाने की बात कही।

रिपोर्ट - शंकरलाल फुलवारियां