वृहद पेयजल योजना : द्वितीय पैकेज के 266 करोड़ के कार्यों के कार्यादेश जारी

शिक्षा मंत्री डॉ. कल्ला के प्रयासों से शहर की पेयजल समस्या के समाधान की ओर बढ़ा एक और कदम

वृहद पेयजल योजना : द्वितीय पैकेज के 266 करोड़ के कार्यों के कार्यादेश जारी

वृहद पेयजल योजना : द्वितीय पैकेज के 266 करोड़ के कार्यों के कार्यादेश जारी

शिक्षा मंत्री डॉ. कल्ला के प्रयासों से शहर की पेयजल समस्या के समाधान की ओर बढ़ा एक और कदम

बीकानेर, 14 मई। शिक्षा मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला के प्रयासों से शहर की पेयजल समस्या के स्थाई समाधान की ओर एक कदम ओर बढ़ा है। राज्य सरकार की वर्ष 2019-20 की बजट घोषणा में स्वीकृत 614.91 करोड़ रुपये की वृहद पेयजल योजना के द्वितीय पैकेज के 266 करोड़ रुपये के कार्यों के कार्यादेश शनिवार को जारी कर दिए गए। पूर्व में 10 फरवरी को 175 करोड़ रुपये के प्रथम पैकेज को भी स्वीकृति दे दी गई थी।
डॉ. कल्ला ने बताया कि इस पेयजल योजना से शहर और आसपास के 32 गांवों के लाखों लोगों को लाभ मिलेगा। बजट घोषणा की अनुपालना में विभाग द्वारा लगभग 798 करोड़ रुपये की डीपीआर बनवाई गई थी। इसके पहले चरण में 614.91 करोड़ रुपये के कार्य होंगे, जिससे वर्ष 2037 तक तथा शेष कार्य पूर्ण होने से वर्ष 2052 तक की पेयजल आवश्यकता की पूर्ति हो सकेगी।
डॉ. कल्ला ने बताया कि वृहद् पेयजल योजना के लिए आधारभूत सरंचनाओं के निर्माण के लिए चकगरबी में 353 बीघा भूमि का निःशुल्क आवंटन करवा दिया गया है। वहीं बीछवाल में यूडीएच से डीएलसी दरों पर 243.30 बीघा भूमि के आवंटन की स्वीकृत जारी हो चुकी है। इसी श्रृंखला में बीकानेर शहर की वर्ष 2052 की मांग के अनुरूप आईजीएनपी से पन्नालाल बारुपाल लिफ्ट और कंवरसेन लिफ्ट कैनाल से समन्वय करते हुए क्रमशः 76 और 45 क्यूसेक अतिरिक्त जल आरक्षित करवा लिया गया है। इससे वर्ष 2052 तक शहर में जल भंडारण की कोई समस्या नहीं रहेगी। 

दोनों पैकेज में होंगे यह कार्य

शिक्षा मंत्री डॉ. कल्ला ने बताया कि योजना के प्रथम पैकेज के कार्य प्रगतिरत हैं। इसमें चकगर्बी हैड वर्क्स पर 30 हजार लाख लीटर जल भण्डारण क्षमता का जलाशय, 300 लाख लीटर जल शोधन क्षमता का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, 2500 किलो लीटर क्षमता के स्वच्छ जलाशय के आलावा बीछवाल हैड वर्क्स पर 25 हजार लाख लीटर जल भण्डारण क्षमता का जलाशय, 300 लाख लीटर जल शोधन क्षमता का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट, 2800 किलो लीटर क्षमता का स्वच्छ जलाशय जैसे आधारभूत निर्माण कार्य किए जाएंगे। इस प्रकार बीकानेर शहर में 4 बड़े जलाशय व इनके अनुरूप विशालकाय फिल्टर होंगे। इसी प्रकार द्वितीय पैकेज में 15 बड़ी टंकियां, 2 स्वच्छ जलाशय, 2 पम्पिंग स्टेशन, 626.32 कि.मी. पाईप लाइन, 62 हजार जल सम्बन्ध, स्काडा, जी.एस.एस., डायरेक्ट फीडर जैसे कार्य करवाए जाएंगे।

तेरह लाख लोगों को होगा प्रत्यक्ष लाभ

डॉ. कल्ला ने बताया कि यह कार्य होने से भविष्य में नहरबंदी व गर्मी के मौसम के बावजूद बीकानेर शहर एवं नापासर सहित आस पास के 32 गांवों  के लगभग 13 लाख लोगों को प्रत्यक्ष लाभ होगा। जलदाय विभाग द्वारा आमजन को पर्याप्त और नियमित जलापूर्ति की जा सकेगी। जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता अजय कुमार शर्मा ने बताया की मंत्री डॉ. कल्ला ने विभागीय अधिकारियों और व फर्म को कार्य शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए हैं।